कोरोना अलर्ट: चीन समेत इन 5 देशों से भारत आने वाले यात्रियों के लिए RT-PCR टेस्ट अनिवार्य

[ad_1]

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने वैश्विक स्तर पर बढ़ रहे कोरोनावायरस संक्रमण (Coronavirus Outberak) को देखते हुए शनिवार को एक बड़ा फैसला लिया. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि चीन, जापान, हांगकांग, बैंकॉक और दक्षिण कोरिया से भारत आने वाले यात्रियों को अनिवार्य रूप से RT-PCR टेस्ट कराना होगा. अगर इन देशों से आने वाले किसी भी यात्री में कोविड-19 के लक्षण पाए जाते हैं या उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसे क्वारंटाइन किया जाएगा. मनसुख मंडाविया ने कहा कि हम इसे लागू करने के लिए नागर विमानन मंत्रालय से बात कर रहे हैं, जल्द ही विस्तृत गाइडलाइंस जारी की जाएंगी. केंद्र सरकार ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए फिर से एयर सुविधा फॉर्म भरना अनिवार्य कर दिया है.

China Covid-19 Updates: कोरोना कर रहा तांडव तो मौतें कम क्यों हैं? चीन ने बताया कैसे गिनता है डेडबॉडी

उन्हें यह फॉर्म भरकर अपनी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में जानकारी देनी होगी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चीन और अन्य देशों में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि को देखते हुए गुरुवार को लापरवाही के प्रति आगाह करते हुए कड़ी निगरानी का आह्वान किया था. उन्होंने निर्देश दिया था कि फिलहाल जारी निगरानी उपायों को, विशेष रूप से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर लागू उपायों को मजबूत किया जाए. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पहले ही नागरिक उड्डयन मंत्रालय से कहा है कि वह शनिवार से प्रत्येक अंतरराष्ट्रीय उड़ान से भारत आने वाले यात्रियों में से 2 प्रतिशत की रैंडम सैंपलिंग सुनिश्चित करें, जिससे देश में कोरोनोवायरस के किसी भी नए स्वरूप की दस्तक के खतरे को कम किया जा सके.

देशभर के कोरोना अस्पतालों में 27 दिसंबर को मॉक ड्रिल
चीन समेत दुनिया के कई अन्य देशों में कोरोना की नई लहर को देखते हुए 27 दिसंबर को देश के सभी कोरोना अस्पतालों और इससे जुड़ी इकाइयों में मॉक ड्रिल होगी. इस मॉक ड्रिल का उद्देश्य कोरोना के उपचार में उपयोग होने वाले सभी उपकरणों समेत अन्य सुविधाओं की तैयारी को परखना है. यह देखा जाएगा कि पिछले वर्ष तक कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जो ढांचा खड़ा किया गया था, वह किसी भी आपातकालीन स्थिति में पहले दिन से ही पूरी क्षमता से काम करने के लिए तैयार है या नहीं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मं​डाविया की सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ हुई बैठक में यह फैसला लिया गया.

COVID in China: चीन में कोरोना की तबाही से WHO चिंतित, जर्मनी को भी ड्रैगन पर नहीं भरोसा; ऐसा करने वाला पहला देश बना

लोगों को कोविड प्रोटोकॉल फॉलो करने की हिदायत मिली
इसके अलावा केंद्र सरकार ने लोगों को भीड़-भाड़ वाली जगहों, सार्वजनिक परिवहनों में मास्क पहनने और कोविड प्रोटोकॉल फॉलो करने की सलाह दी है. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर आने वाले त्योहारों को देखते हुए उपयुक्त कोविड व्यवहारों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने को कहा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ शुक्रवार को हुई बैठक में सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों को दुनिया में कोरोना संक्रमण की ताजा स्थिति के साथ ही देश के भीतर के हालात की जानकारी दी गई. आपको बता दें कि चीन में ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट BF.7 ने तबाही मचाई हुई है. वहां अस्पतालों में बेड नहीं बचे हैं, श्मशान घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए इंतजार करना पड़ रहा है. रोजाना हजारों मौतें हो रही हैं और लाखों की संख्या में नए कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं.

Tags: Coronavirus, COVID 19, Covid 19 Alert

[ad_2]

Source link