अमरोहा के एएसपी के सास-बहू के साथ गैंगरेप
Last Updated on Aug 13 2014

अमरोहा के एएसपी के...

सच्ची खबर :- लखनऊ बीती रात अमरोहा शहर की आरजू कॉलोनी में एक एमआर (मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव) के घर...
भाजपा में अब परिक्रमा नहीं पराक्रम
Last Updated on Aug 10 2014

भाजपा में अब परिक्रमा...

सच्ची खबर :- भाजपा का चेहरा, चरित्र और चिंतन तो पहले ही बदलने लगा था अब पूरा स्वरूप बदलेगा। अमित...
PSLV  C23 लांच, मोदी बोले, भारत एक ताकत बनकर उभरा
Last Updated on Jun 30 2014

PSLV C23 लांच, मोदी बोले, भारत...

sachhikhabar :- श्रीहरिकोटा। पीएसएलवी सी-23 के प्रक्षेपण के लिए शनिवार को शुरू हुई 49 घंटे की उलटी गिनती आज...
जाए तो जाए कहा इसलिए नहीं दी सोसाइटी की चाबी
Last Updated on Jun 13 2014

जाए तो जाए कहा इसलिए...

सच्ची खबर :- मुंबई कैंपा कोला कंपाउंड में अवैध तरीके से बने मकानों को खाली करने की मियाद आज...
पकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कबूला नरेन्द्र  मोदी का न्योता
Last Updated on May 24 2014

पकिस्तान के...

सच्ची खबर :- नई दिल्ली पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भारत के भावी प्रधानमंत्री...

किरण बेदी एक सामाजिक कार्यकर्ता और रिटायर्ड आईपीएस हैं जिन्होंने 1972 में पुलिस सेवा में प्रवेश के बाद 2007 में सेवा से रिटायमेंट ले लिया था। वे लोकप्रिय टीवी सीरिज 'आप की कचहरी' की होस्ट भी रह चुकी हैं। उन्होंने दो गैर-सरकारी संगठन भी बनाए हैं जिनमें से एक को नवज्योति इंडिया फाउंडेशन और दूसरे को इंडिया विजन फाउंडेशन के नाम से जाना जाता है।

नवज्योति पुलिस सुधार के लिए और ‍इंडिया विजन फाउंडेशन जेल सुधारों के लिए सक्रिय तौर पर काम कर रहे हैं। उन्हें 1994 में सरकारी सेवा के लिए रमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। हालांकि उन्हें और भी बहुत से पुरस्कार मिल चुके हैं। 

किरण बेदी का जन्म 9 जून, 1949 को अमृतसर पंजाब में हुआ था। वे प्रकाश पेशावरिया और प्रेम पेशावरिया की चार बेटियों में से दूसरे नंबर की हैं। उनकी तीन बहनें हैं जिनमें से शशि कनाडा में रहती हैं और एक कलाकार हैं। दूसरी बहन रीता क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट और लेखक है जबकि तीसरी बहन अनु एक वकील हैं।

उन्होंने सैक्रेड हार्ट कन्वेंट स्कूल, अमृतसर से शिक्षा की शुरुआत की थी। बाद में वे छात्र जीवन में टेनिस खेलती रहीं और उन्होंने टेनिस में कई खिताब जीते। वे ऑल-‍एशियन टेनिस चैम्पियनशिप और एशियन लेडीज टाइटल विजेता रह चुकी हैं। 

वे इंग्लिश में बी.ए. (आनर्स) होने के साथ-साथ पॉलिटिकल साइंस में एम.ए. और कानून की स्नातक हैं। साथ ही, वे आई.आई.टी. दिल्ली से डॉक्ट्‍रेट भी ले चुकी हैं। 1972 में उन्होंने एक कारोबारी बृज बेदी से विवाह किया था। तीन वर्ष बाद उनकी बेटी साइना पैदा हुई थी। वे दो साल के लिए खालसा कॉलेज फॉर वीमेन, अमृतसर में एक लेक्चरर रहीं और बाद में जुलाई 1972 में भारतीय पुलिस सेवा में भर्ती हुई थीं।

एक आई.पी.एस. रहते हुए उन्होंने बहुत सारे महत्वपूर्ण काम किए। वे संयुक्त राष्ट्र पीसकीपिंग ऑपरेशन्स से भी जुड़ी रहीं और इसके लिए उन्हें मेडल भी दिया गया था। उन्हें क्रेन बेदी के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि जब वे दिल्ली में ट्राफिक में उच्च पदस्थ अधिकारी थीं तब उन्होंने तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी की कार को क्रेन से उठवा लिया था और पार्किंग नियमों का उल्लंघन करने पर जुर्माना भी लगाया था।

उन्हें जेल प्रशासन में महत्वपूर्ण सुधार करने के लिए भी जाना जाता है। उन्होंने कैदियों के कल्याण के लिए तिहाड़ जेल में बहुत सारे सुधार किए जिसके परिणाम स्वरूप उन्हें रमन मेगसेसे पुरस्कार के साथ साथ जवाहर लाल नेहरू फेलोशिप भी मिली थी। जेल सुधारों के लिए उन्हें 2005 में मानद डॉक्ट्‍रेक्ट भी प्रदान की गई थी।

किरण बेदी अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर नशा करने वाले कैदियों के सुधार के लिए नशामुक्ति अभियान चलाया और अब उनके फाउंडेशन निरक्षरता और महिला सशक्तीकरण के लिए काम कर रहे हैं। वे इंडिया अगेंस्ट करप्शन की एक प्रमुख सदस्य रही हैं जिसने अण्णा हजारे और अरविंद केजरीवाल के साथ मिलकर जन लोकपाल के लिए आंदोलन किया था। वे और उनके साथी देश में मजबूत लोकपाल की नियुक्ति करने के लिए सरकार से आग्रह करते रहे हैं। 

जहाँ एक ओर उन्हें बहुत सारे पुरस्कार, प्रशंसा मिली है वहीं एक विदेशी कैदी को चिकित्सा सेवा उपलब्ध न कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने उनकी आलोचना की थी और उनके खिलाफ अदालत की अवमानना के मामले की शुरुआत की थी। 1988 में बाधवा आयोग ने वकीलों पर लाठी चार्ज करवाने के लिए बेदी की आलोचना की थी।

बहुत सारे लोकप्रिय इंटरव्यूज शो के होस्ट करण थापर ने भी उनसे जुड़े विवादों को लेकर एक लेख लिखा था और इस कारण से वे थापर के एक इंटरव्यू शो में नहीं गई थीं। जन लोकपाल के लिए चल रहे आंदोलन के दौरान भी सरकारी और गैर सरकारी लोगों ने उनपर कट्‍टरपंथी होने का आरोप लगाया था। उन पर सांसदों का अपमान करने के भी आरोप लगे। 

उनके उपर हवाई टिकट का बेजा किराया वसूलने और गलत तरीके से अपनी बेटी को एम.बी.बी.एस. कोर्स में प्रवेश दिलाने का भी आरोप लगा। जिस कोटे के अंतर्गत उनकी बेटी को मेडीकल सीट मिली वह उत्तर-पूर्व के छात्रों के लिए था लेकिन उनका कहना था कि वे मिजोरम में सेवारत हैं इसलिए उनकी बेटी भी उत्तर पूर्व की है।

उन पर गैर-सरकारी संगठनों के फंड का दुरुपयोग करने का भी आरोप लग चुका है। उनके जीवन पर एक नॉन फिक्शन फीचर फिल्म भी बन चुकी है जिसका दुनिया भर में प्रदर्शन किया गया था। उन पर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी बनी जोकि बहुचर्चित हुई।‍ किरण बेदी की कई जीवनियां भी बाजार में बिक रही हैं। खुद किरन बेदी ने कई पुस्तकें लिखी हैं जोकि चर्चित हुई हैं।
 

 

 

Swami Vivekanand's name was Narendra Nath Dutta in his pre-monastic life. He was born in an affluent family in Kolkata on 12th January, 1863. His father, Vishwanath Datta, was a successful attorney with interest in varied subjects, and his mother, Bhuvaneshwari Devi, was endowed with qualities like deep devotion, strong character etc. The precocious boy, Narendra mastered music, gymnastics and studies. By the time he completed his graduation from Calcutta University, he had acquired a vast knowledge of different subjects, especially Western philosophy and history. He had a yogic temperament and used to practice meditation even from his boyhood, and was also involved in 'Brahmo Movement' for time being.

Meeting the Mentor

At the threshold of youth, Narendra had to undergo a period of spiritual crisis when he was confused by doubts about the very existence of God. And at that time, he came to know about Shri Ramakrishna from his English professor at college. In November 1881, one day Narendra went to meet Shri Ramakrishna at the Kali Temple in Dakshineshwar. He straight away asked him a question, which he had asked to several others but had received no satisfactory answer, "Sir, have you seen God?" 

Without a moment's hesitation, Shri Ramakrishna replied, "Yes, I have. I can see Him as clearly as I see you, only in a much deeper sense." 

Shri Ramakrishna not only removed doubts from the mind of Narendra, but also won him over through his pure, selfless love. And thus began a unique Guru-disciple relationship in the history of spiritualism. Narendra now started visiting Dakshineshwar frequently and, under the guidance of the Guru, made rapid progress on the spiritual path. At Dakshineshwar, Narendra also met many youngsters who were devoted to Shri Ramakrishna, and they all became close pals.

Tough Times

After a few years two incidents distressed Narendra considerably. One was the sudden death of his father in 1884, leaving his family in miserable condition. Hence, Narendra had to bear the burden of supporting his mother, brothers and sisters. The second event was the illness of Shri Ramakrishna which was diagnosed as throat cancer. In September 1885, Shri Ramakrishna was taken to a house at Shyampukur, and a few months later to a rented villa at Cossipore. At these two places the young disciples nursed their Guru with utmost care. Though there was poverty at home, as he was unemployed, Narendra had lead his fellows.

Mahatma Gandhi became one of the pivotal figures, if not the main figure, in India's history in the Twentieth Century. Along with Jinnah and Nehru, Gandhi shaped India's history up to its independence in 1947.

Mahatma Gandhi was born on the 2nd of October 1869 and he died on the 30th of January 1948.

Gandhi was born in Porbander in western India. In 1888, he went to London to study law. He returned to Bombay to work as a barrister but went to South Africa to work in 1907. In South Africa, he took part in passive protests against the Transvaal government's treatment of Indian settlers who were in the minority in the region. In 1915, he returned to India and, after joining the Congress movement, he emerged as one of the party's leaders.

Gandhi encouraged Indians to boycott British goods and buy Indian goods instead. This helped to revitalise local economies in India and it also hit home at the British by undermining their economy in the country. Gandhi preached passive resistance, believing that acts of violence against the British only provoked a negative reaction whereas passive resistance provoked the British into doing something which invariably pushed more people into supporting the Indian National Congress movement.

Gandhi was imprisoned in 1922, 1930, 1933 and in 1942. While in prison, he went on hunger strike. His fame was such that his death in prison would make international headlines and greatly embarrass the British at a time when Britain was condemning dictators in Europe.

In 1931, Gandhi came to Britain for the Round Table conferences. Nothing was achieved except for the publicity that Gandhi received for dressing in the clothes of an Indian villager; Gandhi saw this type of dress as perfectly normal for a man who represented the Indian people. The British representatives at the conference were more soberly dressed in formal morning dress.

When in India, Gandhi took on the British where possible. He famous walk to the sea to produce salt was typical of his actions. Britain had a monopoly on salt production in India and Gandhi saw this as wrong. Hence his decision to produce salt by the sea.

He realised that the religious issues of India were too deep for any remedy to work. Hence he collaborated with Mountbatten and Wavell in the build up to independence in 1947. This association with the break-up of India was to cost him his life. There had been one assassination attempt on Gandhi on January 20th 1948 - it had failed. Just ten days later on the 30th January, he was assassinated by a Hindu fanatic who could not forgive Gandhi for his belief that Muslims had equal value to Hindus and no-one was better than anybody else.

संपादकों की पसंद
Sachhi khabari
Monday, Mar 24 2014

सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए सोनिया गांधी ने अमेरिकी कोर्ट को अपनी पासपोर्ट की कॉपी देने से इनकार कर दिया है। 1984 के सिख दंगों के मामलों के मद्देनज़र कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी से पासपोर्ट मांगा गया था।

श्रीमती गांधी ने अपना पासपोर्ट यह कह कर देने से इनकार कर दिया कि भारत सरकार इसकी इजाजत कभी नहीं देगी। सिखों के हित के लिए काम कर रहे एक समूह ने सोनिया गांधी पर एक केस दर्ज़ करवाया था और आरोप लगाया था कि सोनिया गांधी सिख दंगों में शामिल अपने पार्टी के लोगों को बचाने की कोशिश कर रही हैं।

सोनिया ने ब्रुकलीन, न्यूयॉर्क के कोर्ट को लिखे एक पत्र में कहा कि सुरक्षा कारणों के मद्देनज़र भारत सरकार उन्हें इस बात की  इजाजत नहीं दे रही है कि वे अपने पासपोर्ट की कॉपी अमेरिकी कोर्ट में जमा करें।

उल्लेखनीय है कि श्रीमती गांधी ने न्यूयॉर्क में किसी फ़ेडरल समन के मिलने से इनकार किया था। उसके बाद जज ने मार्च के महीने में गांधी से उनकी पासपोर्ट की कॉपी मांगी थी। केवल पासपोर्ट ही इस बात को प्रमाणित कर सकता है कि 2012 में श्रीमती गांधी अमेरिका में थी या नहीं। इस दौरान सिखों के हित के लिए काम कर रहे एक समूह ने उन्हें समन भेजा था। समूह का कहना है कि उनके अधिकारियों ने उस अस्पताल में इस समन की कॉपी रिसीव करवाई थी जहां गांधी का इलाज चल रहा था।

Tuesday, Apr 08 2014

सूत्रों के हवाले से ख़बर आ रही है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और चुनाव आयोग में समझौता हो गया है। ममता बनर्जी ने ने अफ़सरों के तबादले की जानकारी मांगी है। साथ ही ममता चुनाव आयोग के निर्देश पर अपने अधिकारियों के तबादले को तैयार हो गई हैं।

इससे पहले, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग के उस आदेश को मानने से इनकार कर दिया था जिसमें राज्य के पांच एसपी, एक डीएम और दो एडिशनल जिला मजिस्ट्रेट के तबादले के लिए कहा था।

ख़बर आ रही थी कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग को ख़त लिखा।

ममता ने कहा है कि वो आयोग के कहने पर किसी भी अफ़सर को नहीं हटाएंगी। उन्होंने ये भी कहा कि चुनाव आयोग सिर्फ कांग्रेस की सुनता है।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में निर्वाचन प्राधिकारियों ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पांच पुलिस अधीक्षकों और एक जिला मजिस्ट्रेट को उनके खिलाफ शिकायतें मिलने के बाद चुनाव ड्यूटी से हटा दिया, जिससे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नाराज हो गईं और आयोग के आदेश को मानने से इनकार कर दिया। उधर विपक्ष ने उनके इस रवैये की आलोचना की है।

नाराज ममता ने कहा कि जब तक वह मुख्यमंत्री हैं, तब तक किसी भी अधिकारी का तबादला नहीं होगा। उन्होंने चुनाव पैनल को अपने खिलाफ कार्रवाई की चुनौती देते हुए कहा कि वह गिरफ्तार होने और जेल जाने के लिए तैयार हैं।

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुनील गुप्ता ने बताया ‘चुनाव आयोग ने पांच पुलिस अधीक्षकों और एक जिला मजिस्ट्रेट को उनके खिलाफ शिकायतें मिलने के बाद चुनाव ड्यूटी से हटा दिया है’। गुप्ता ने कहा कि चुनाव ड्यूटी से हटाए गए पुलिस अधीक्षकों में आरके यादव (माल्दा), हुमायूं कबीर (मुर्शिदाबाद), एसएमएच मिर्जा (बर्दवान), भारती घोष (पश्चिम मिदनापुर और झाड़ग्राम) और उत्तर 24 परगना के डीएम संजय बंसल शामिल हैं।

चुनाव आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव संजय मित्रा से आदेश को तत्काल कार्यान्वित करने के लिए कहा है। आयोग ने यह भी आदेश दिया है कि राज्य सरकार उसे (आयोग को) आवश्यक सूचना दे कर, हटाए गए अधिकारियों को गैर चुनाव संबंधी पदों में नियुक्ति दे सकती है।

Tuesday, Apr 08 2014

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भाजपा के घोषणा पत्र को अपने घोषणा पत्र की कापी बताते हुए कांग्रेस ने भाजपा पर तीखा हमला किया है। पार्टी ने भाजपा पर उसके घोषणा पत्र के मुद्दों को चोरी करने का आरोप लगाया है। पार्टी मतदान के दिन घोषणा पत्र जारी करने के लिए भाजपा की शिकायत चुनाव आयोग से करेगी। घोषणा पत्र में राम मंदिर मुद्दा शामिल करने के लिए कांग्रेस आयोग में आपत्ति भी दर्ज कराएगी।

गांवों में इंटरनेट सुविधाओं, स्वास्थ्य, सबको मकान, शिक्षा, आर्थिक सुधार और इंफ्रास्ट्रक्चर को लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर उसके घोषणा पत्र की नकल का आरोप लगाया है। पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, भाजपा ने ऐसी अंधी नकल की है कि कांग्रेस घोषणा पत्र की तारीख तक नहीं बदली।

दरअसल, भाजपा के घोषणा पत्र में मुरली मनोहर जोशी ने जो प्रस्तावना लिखी है उसमें 26 मार्च की तारीख है। कांग्रेस का घोषणा पत्र इसी दिन जारी हुआ था। उन्होंने कहा, भाजपा ने हर गांव को इंटरनेट से जोड़ने और हर राज्य में एम्स बनाने की बात कही है। जबकि, संप्रग सरकार इन पर काम भी शुरू कर चुकी है। सबको मकान देने की बात भी कांग्रेस ने पहले कही है।

आर्थिक सुधारों को लेकर भी पार्टी ने जो अपने घोषणा पत्र में कहा है, भाजपा ने शब्दों को बदल कर उन्हें दोहराया भर है। बुनियादी ढांचे को लेकर कांग्रेस के विजन पत्र में जो कहा गया है भाजपा ने उसे भी कापी पेस्ट कर दिया है। हमने वादा किया था कि कांग्रेस 10 लाख की आबादी वाले शहरों में हाईस्पीड ट्रेन चलाएगी। वेस्टर्न-ईस्टर्न फ्रेट कॉरीडोर पूरा करेगी। जलमार्ग का विस्तार किया जाएगा। भाजपा ने सिर्फ नाम बदला है और कहा है कि वह स्वर्णिम चतुर्भुज बुलेट ट्रेन लेकर आएगी।

टीम राहुल के अहम सदस्य माने जाने वाले जयराम रमेश ने भी दावा किया कि भाजपा के घोषणा पत्र में शामिल कुछ योजनाएं तो 10 साल से मौजूद हैं। कांग्रेस की विधि इकाई के प्रमुख केसी मित्तल ने भाजपा पर चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों की अवहेलना का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि पहले चरण का मतदान शुरू होने के बाद घोषणा पत्र जारी करने को लेकर वे आयोग से भाजपा की शिकायत करेंगे।

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने भाजपा द्वारा उर्दू और मदरसों को सहायता देने की बात पर चुटकी लेते हुए कहा, 'मुझे खुशी है कि भाजपा जैसी पार्टी भी मदरसों को मदद की बात कर रही है, यह देश के लिए शुभ संकेत है।'

राम मंदिर मुद्दे पर भाजपा को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा, 'मुझे मालूम था कि इन लोगों में राम के प्रति निष्ठा नहीं है। 2004 में भी इन्होंने कहा था कि विशाल मंदिर बनाया जाएगा, फिर बात करनी छोड़ दी।'

Sunday, May 18 2014 0 comment
दिल्ली में आज मोदी और मोहन भागवत

नई दिल्ली। देश के भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को राजधानी दिल्ली में ही रहेंगे

मेरठ का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

मेरठ उत्तर प्रदेश पुलिस ने खरखौदा के चर्चित धर्मपरिवर्तन और

Read more

सरहद तक पहुंचा बहनों का प्यार

सच्ची खबर :- देश की विभिन्न छावनियों में तैनात फौजी

Read more

चीनू पंडित का खुलाशा जेल

sachhi khabar :- रुड़की उप कारागार के गेट पर हुए तिहरे

Read more

किशोर को बंधक बनाकर आंखों में

सच्ची खबर :- जासं बिथान थाना क्षेत्र के शनिचरा गांव निवासी

Read more

कांग्रेस के नए अध्यक्ष से

देहरादून प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर दावेदारी में मिली

Read more

यू पी में खाकी वर्दी वाले भी

सच्ची खबर :- लखनऊ खराब कानून-व्यवस्था के कारण चारों तरफ

Read more

फर्जी अधिकारी धरा गया जम कर

सच्ची खबर :- कानपुर,स्वरूप नगर क्षेत्र में क्राइम ब्रांच का

Read more

तालिबान मोदी को बनाना चाहता

सच्ची खबर :- नई दिल्ली। देश के भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र

Read more

दिल्ली में आज मोदी और मोहन

नई दिल्ली। देश के भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को

Read more

जानिये हरिद्वार लोक सभा सीट

सच्ची खबर :- हरिद्वार लाक सभा सीट में कुल 14 विधान सभा सीट

Read more

मेरठ में दो समुदाये में

सच्ची खबर :- मेरठ वही तारीख और लगभग समय भी कुछ वैसा ही।

Read more

माओवादीयो की मुस्तेदी से

सच्ची खबर :- देहरादून आम चुनाव के दौरान अल्मोड़ा में

Read more

चुनाव के अंतिम दोर में

सच्ची खबर :- लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

Read more

अपने दम पर बनाएगे सरकार किसी

सच्ची खबर :- कानपुर प्रचार वास्ते अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी

Read more

राम देव की चुनाव आयोग को

सच्ची खबर :- लखनऊ कांग्रेस ने आज योग गुरु बाबा रामदेव पर

Read more

छात्रा की मोत पर बवाल पुलिस

कलियर: डीसीएम व टैंपो की आमने-सामने की भिड़ंत में

Read more

भूख हड़ताल होने के बावजूद

सच्ची खबर :- मेरठ स्थानीय निवासियों की भूख हड़ताल भी फूलबाग

Read more

बसपा को जोर का झटका हल्के से

सच्ची खबर :- कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के मौके पर हरिद्वार

Read more

विरोध नहीं छोडू गा मोदी का

सच्ची खबर :-जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने

Read more

सरधना सीट के भाजपा विधायक

सच्ची खबर :-हरिद्वार लोक सभा सीट के प्रत्यासी डॉ.रमेश निसंक

Read more

भाजपा के महासचिव अमित शहा से

सच्ची खबर :- नई दिल्ली चुनाव आयोग ने भाजपा महासचिव और

Read more

दो साल में दो गुनी खंडूरी की

सच्ची खबर :- गढ़वाल संसदीय सीट से भाजपा प्रत्याशी एवं पूर्व

Read more

क्या होगा केजरीवाल का

सच्ची खबर :- वाराणसी आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल

Read more

मार खाने के बाद अब महिलाओं ने

सच्ची खबर :- लखनऊ भाजपा के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी

Read more

लापता व्यापारी की बरामदगी को

सच्ची खबर :- मेरठ सकौती बाजार से केला व्यापारी तीन दिनों से

Read more

एयर इंडिया के प्लेन की

दिल्ली से हैदराबाद जा रहे एयर इंडिया के विमान में तकनीकी

Read more

भाजपा कार्यालय में रही खूब

राजधानी में बृहस्पतिवार को हुए मतदान के बाद सभी पार्टियों

Read more

दिल्ली वालों ने दिखाया दिल

दिल्ली ने लोकसभा चुनाव में मतदान का नया रिकॉर्ड बनाया। यहां

Read more

तीन स्तरीय सुरक्षा घेरे में

चुनाव प्रक्रिया शांतिपूर्वक संपन्न कराने के बाद अब पुलिस

Read more

आजम पर रोक के बाद मुलायम ने

चुनाव आयोग के निर्देश के बाद सपा के मंत्री आजम खां पर लोक

Read more
021750
Today
Yesterday
This Week
Last Week
This Month
Last Month
All days
10
36
298
20851
1687
2638
21750

Your IP: 23.22.194.120
Server Time: 2014-10-26 08:28:00

jyotish12

Follow us

 

 
ROORKEE IIT